पहला इतिहास ग्रन्थ : अध्याय 13
1) दाऊद ने सहस्त्रपतियों और षतपतियों-सब नेताओं से सलाह ली।
2) दाऊद ने इस्राएल के सारे समुदाय से कहा, ÷÷यदि आप लोग ठीक समझें और प्रभु, हमारे ईष्वर को यह बात स्वीकार्य हो, तो हम अपने सारे अन्य बन्धुओं को, जो इस्राएल के देष भर में रह गये हैं और उनके साथ अपने नगरों और चरागाहों में रहने वाले याजकों तथा लेवियों को यह कहला भेजें कि वे हम में सम्मिलित हों।
3) हम अपने ईष्वर की मंजूषा अपने पास ले आयें, क्योंकि हमने साऊल के षासनकाल में उसका ध्यान नहीं रखा।''
4) सारे समुदाय ने इसे स्वीकार किया। यह प्रस्ताव सब लोगों को अच्छा लगा।
5) दाऊद ने मिस्र के षीहोर से ले कर हमात के मार्ग तक के सब इस्राएलियों के किर्यत-यआरीम से प्रभु की मंजूषा ले आने के लिए एकत्रित किया।
6) दाऊद सब इस्राएलियों के साथ यूदा प्रान्त के बाला, अर्थात् किर्यत-यआरीम गया, जिससे वह वहाँ से ईष्वर की मंजूषा ले आये, जो केरूबों पर आसीन प्रभु के नाम से प्रसिद्ध है।
7) ईष्वर की मंजूषा एक नई गाड़ी पर रखी गयी और अबीनादाब के घर से ले जायी गयी। उज्जा और अहयो वह गाड़ी हाँक रहे थे।
8) दाऊद और इस्राएल के सब लोग ईष्वर के सामने सारे हृदय से खुषियाँ मना रह थे और गीत गाते, सितार, सारंगी, डफ, डमरू और तुरहियाँ बजाते हुए चल रहे थे।
9) जब वे कीदोन के खलिहान के पास आये, तब उज्जा ने हाथ उठा कर मंजूषा को सँभाला, क्योंकि बैलों को ठोकर लग गयी थी।
10) प्रभु का कोप उज्जा पर भड़क उठा, क्योंकि उसने मंजूषा को हाथ उठाकर छू लिया था। वहीं ईष्वर के सामने उसकी मृत्यु हो गयी।
11) दाऊद बहुत घबरा गया, क्योंकि प्रभु का क्रोध उज्जा पर भड़क उठा। उस स्थान का नाम पेरेस-उज्जा पड़ गया, जो आज तक प्रचलित है।
12) उस दिन यह सोच कर दाऊद ईष्वर से डर गया कि मैं ईष्वर की मंजूषा अपने पास कैसे ला सकता हूँ।
13) इसलिए दाऊद मंजूषा अपने यहाँ दाऊदनगर में नहीं लाया, बल्कि उसे गतवासी ओबेद-एदोम के यहाँ ले गया।
14) ईष्वर की मंजूषा तीन महीने तक ओबेद-एदोम के यहाँ रही। प्रभु ने ओबेद-एदोम के घर और परिवार और उसके यहाँ जो कुछ था, उसे आषीर्वाद दिया।
पड़ें अध्याय - 13141516