पहला इतिहास ग्रन्थ : अध्याय 25
1) दाऊद ने अपनी सेना के अध्यक्षों के साथ आसाफ़, हेमान और यदूतून के वंषजों में कुछ लोगों को सेवा-कार्य के लिए चुना, जिससे वे सितार, सारंगी और मंजीरा बजाते हुए भविष्यवाणी करें। इस सेवाकार्य के लिए चुने हुए लोगों की सूची इस प्रकार हैं :
2) आसाफ़ के पुत्रों में : जक्कूर, यूसुफ़ नतन्या, अषरएला। आसाफ़ के पुत्र अपने पिता के निर्देषन में वाद्य बजाते थे। जब वह दाऊद के निर्देषन में भविष्यवाणी करता था।
3) यदूतून से : यदूतून के पुत्र गदल्या, सरी, यषाया, षिमई, हषब्या और मित्तया-कुल छः। ये अपने पिता यदूतून के निर्देषन में वाद्य बजाते थे, जब वह सितार बजाते हुए प्रभु का धन्यवाद और स्तुतिगान करता था।
4) हेमान से : हेमान के पुत्र बक्कीया, मत्तन्या, उज्जीएल, षबूएल, यहरीमोत, हनन्या, हनानी, एलीआता, गिद्दल्ती, रोममती-ऐजर, योषबकाषा, मल्लोती, होतीर और महजीओत थे।
5) ये सब राजा के दृष्टा हेमान के पुत्र थे। ईष्वर ने उस से प्रतिज्ञा की थी कि वह उसे महान् बनायेगा और इसलिए उसने हेमान को चौदह पुत्र और तीन पुत्रियाँ दी थीं।
6) ये सब राजा, आसाफ़, यदूतून और हेमान की आज्ञा के अनुसार, अपने पिता के निर्देषन में, प्रभु के मन्दिर में मंजीरा, सारंगी और वीणा बजाते और गाते हुए ईष्वर के मन्दिर का सेवा-कार्य सम्पन्न करते थे।
7) उनकी और उनके भाइयों की संख्या दो सौ अठासी थी। वे सब प्रभु के स्तुतिगान में प्रषिक्षित थे।
8) छोटे, बडे, गुरू, षिष्य-सब ने अपनी-अपनी पारी के लिए चिट्ठी डाली।
9) पहली चिट्ठी आसाफ़वंषियों के यूसुफ़ के नाम निकली। दूसरी गदल्या, उसके भाइयों और उसके पुत्रों के नाम निकली-बारह।
10) तीसरी जक्कूर, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
11) चौथी इस्त्री, उनके पुत्रों और भाईयों के नाम-बारह।
12) पाँॅचवीं नतन्या, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
13) छठी बुक्कीया, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
14) सातवीं यषरएला, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
15) आठवीं यषाया, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
16) नौवीं मत्तन्या, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
17) दसवीं षिमई, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह
18) ग्यारहवीं अजरएल, उनके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह
19) बारहवीं हषब्या, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
20) तेरहवीं षूबाएल, उनके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
21) चौदहवीं मत्तित्या, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
22) पन्द्रहवीं यरेमोत, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
23) सौलहवीं हनन्या, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
24) सत्रहवीं योषबकाषा, उनके पुत्रों और भाइयांें के नाम-बारह।
25) अठारहवीं हनानी, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
26) उन्नीसवीं मल्लोती, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
27) बीसवीं एलीआता, उसके, पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
28) इक्कीसवीं होतीर, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
29) बाईसवीं में गिद्दल्ती, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
30) तेईसवीं महजीओत, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
31) चौबीसवीं रोममती-एजेर, उसके पुत्रों और भाइयों के नाम-बारह।
पड़ें अध्याय - 2526272829