टोबीत का ग्रन्थ : अध्याय 2
1) एसरहद्दोन के राज्यकाल में मैं फिर अपने घर वापस आया और मुझे फिर अपनी पत्नी अन्ना और अपना पुत्र टोबीयाह मिले। जब पेन्तोकोस्त, अर्थात् सप्ताहों के पर्व के दिन मेरे लिए उत्तम भोजन तैयार किया गया, तो मैं खाने बैठा।
2) मैंने बहुत-से खाद्य-पदार्थ देख कर अपने पुत्र से कहा, ''जाओ और नीनवे में निर्वासित अपने प्रभु-भक्त भाइयों में जो मिलें, उन्हें ले आओ, जिससे वे मेरे साथ भोजन करें। मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करूँगा।''
3) वह गया और लौट कर बोला कि एक इस्राएली की गला घोंट कर हत्या कर दी गयी है और वह बाज+ार में पड़ा हुआ है।
4) मैं तुरन्त उठ कर खड़ा हुआ और अपना भोजन छोड़ कर शव के पास पहुँचा। मैंने उसे उठा लिया और सूर्यास्त के बाद दफ़नाने के लिए छिपे-छिपे अपने घर ले गया।
5) शव को छिपाने के बाद मैंने उदास हो कर भोजन किया।
6) मुझे नबी अमोस की यह वाणी याद आयी, जो उन्होंने बेतेल में कही थी, ''तुम्हारे पर्व के दिन दुःख में और तुम्हारे गीत विलाप में परिणत हो जायेंगे''
7) और मैं रोने लगा। सूर्यास्त के बाद मैं उस शव को दफ़नाने गया।
8) मेरे सभी पड़ोसी यह कहते हुए मेरा उपहास करते थे, ''यह व्यक्ति अब भी नहीं डरता। इस काम के लिए इसे मरवा डालने के लिए ढूँढा गया है और इसे भागना पड़ा। देखो, यह फिर मुरदों को दफ़नाता है।''
9) उस रात मैं उसे दफ़नाने के बाद लौट कर नहाया और आँगन की दीवार के पास लेट कर सो गया। गरमी के कारण मेरा चेहरा ढका नहीं था।
10) मुझे मालूम नहीं था कि दीवार पर गौरैयाँ रहती थीं। उनकी गरम बीट मेरी आँखों पर ंिगर पड़ी, जिससे मेरी आँखों में मोतियाबिन्द हो गया। मैं इलाज के लिए वैद्यों के पास गया, किन्तु उन्होंने मेरी आँखों पर जितना अधिक मरहम लगाया, मैं उतना ही कम देखने लगा और अन्त में मैं अन्धा हो गया। मैं चार वर्ष तक अन्धा रहा और मेरे सभी भाई मेरे कारण दुःखी थे। जब तक अहीकार एलिमई नहीं गया, तब तक वह मेरी जीविका का प्रबन्ध करता रहा।
11) उस समय मेरी पत्नी अन्ना सिलाई-बुनाई का काम करती थी।
12) मालिक उसे पूरी मज+दूरी देते थे। ग्यारहवें महीने के सातवें दिन वह सिलाई का काम पूरा कर उसे मालिकों को देने गयी और उन्होंने मज+दूरी के सिवा बकरी का बच्चा दिया।
13) जब बच्चा घर आया और मिमियाने लगा, तो मैंने पत्नी से पूछा, ''यह बच्चा कहाँ से आया? कहीं चोरी का तो नहीं है? इसे इसके मालिक को लौटा दो। हम चोरी की चीज+ नहीं खा सकते।''
14) उसने उत्तर दिया, ''यह मुझे मज+दूरी के साथ बख़शीश में मिला है''। परन्तु मैंने उसका विश्वास नहीं किया और उसे उसके मालिक को लौटा देने को कहा। मुझे उसके इस काम से लज्जा हुई। किन्तु उसने मुझे यह उत्तर दिया, ''कहाँ हैं तुम्हारे भिक्षादान? कहाँ है तुम्हारा धर्माचरण? अब पता चला कि तुम कितने पानी में हो!
पड़ें अध्याय - 1234