मक्काबियों का दूसरा ग्रन्थ : अध्याय 9
1) ेउसी समय अंतियोख को भी फारस के प्रांतों से बुरी तरह पराजित हो कर हट जाना पडा।
2) वह फारसीपुलिस नामक नगर में घुस आया था। वह मंदिर को लूटने और नगर पर अधिकार करने ही वाला था कि वहाँ की जनता ने अपनी रक्षा के लिए अस्त्र उठा लिये। अंतियोख को देशवासियों द्वारा भगा दिया गया और उसे अपमानपूर्वक हटना पडा।
3) एकवतना पहुँचने पर उसे संदेश मिला कि निकानोर, तिमोथेव और उसके आदिमयों पर क्या बीती।
4) उसने क्रोध के आवेश में शपथ खायी कि भगाये जाने से उसका अभी जो अपमान हुआ है, इसका बदला यहूदियों से अवश्य लेगा। इसलिए उसने अपने सारथी को बिना रूके रथ चलाने का आदेश दिया, किंतु ईश्वर का दण्ड उसक साथ-साथ चल रहा था। उसने अपने अहंकार में यह कहा था, ''मैं वहाँ पहँुच कर येरुसालेम को यहूदियों का कब्रिस्तान बना दूँगा''।
5) किंतु प्रभु ने जो सब कुछ देखता है और इस्राएल का ईश्वर है, उसे असाध्य एवं अज्ञात रोग का शिकार बना दिया। जैसे ही उसने ये बाते कहीं, उसे अपनी अँतडियों में एक असह् पीडा का अनुभव हुआ और उसके शरीर मे तेज दर्द होने लगा।
6) यह उसका उचित दण्ड था, क्योंकि उसने क्रूर यंत्रणाओं से दूसरों की अंतडियों को उत्पीडित किया था।
7) इसके बावजूद उसने अपना अहंकार नहीं छोडा। उसने यहूदियों पर क्रोध में आ कर जल्दी करने को कहा, किंतु वह तेजी से चलते रथ से अचानक गिर पडा और इतने जोर से जमीन पर पटक दिया गया कि उसके सभी अंग टूट गये।
8) जो अभी-अभी अहंकार के आवेश में समुद्र की लहरों पर अधिकार करने और बड़े-बड़े पर्वतों को तराजू पर तौलने की सोच रहा था, उसे अब भूमि पर से उठा पर पालकी पर बिठाया जा रहा था। यह ईश्वर के सामर्थ्य का सुस्पष्ट प्रमाण था।
9) उस विधर्मी की हालत इतनी खराब हुई कि उसकी आंतों से कीडे निकल आये, उसके जिंदा रहते ही उसका माँस गल-गल कर गिरने लगा और उसे घोर पीड़ा सहनी पड़ी। उसके शरीर की दुर्गन्ध से उनकी सेना परेशान थी।
10) जो व्यक्ति अभी-अभी आकाश के तारों की ओर हाथ बढाने की सोच रहा था, उसकी असहनीय दुर्गन्ध के कारण कोई साथ नहीं रह सकता था।
11) जब उसका शरीर टूट गया था और वह ईश्वर से दण्डित हो कर निरंतर पीड़ा झेल रहा था, जो उसका घमण्ड कम हो गया और उस में सद्बुद्धि आ गयी।
12) जब वह अपने शरीर की दुर्गन्ध सहने मे असमर्थ हो गया, तो उसने कहा, ''मरणशील मनुष्य को ईश्वर की अधीनता स्वीकार कर घमण्ड नहीं करना चाहिए''।
13) प्रभु ने उस दुष्ट की प्रार्थना स्वीकार करना और उस पर दया करना उचित नहीं समझा।
14) उसने अपनी प्रार्थना में यह प्रतिज्ञा की कि वह उस नगर को स्वतंत्रता प्रदान करेगा, जिसकी ओर वह शीघ्रता से यात्रा कर रहा था, जिससे वह उसे धूल में मिलाये और कब्रिस्तान बनाये।
15) जिन यहूदियों को उसने दफ़नाने लायक भी नहीं समझा था और जिन्हें उनके बाल-बच्चों के साथ जंगली जानवारों का आहार बनाना चाहता था, उन्हें उसने एथेंस की नागरिकता प्रदान करने की प्रतिज्ञा की।
16) जिस पवित्र मंदिर को उसने पहले लूटा था, उसे उसने सर्वोत्तम उपहारों से सजाने, उसके बहुसंख्यक पवित्र पात्र लौटाने और फिर से बलिदानों का खर्च चुकाने का वचन दिया।
17) इसके सिवा उसने स्वयं यहूदी बनने और हर जगह जा कर ईश्वर का सामर्थ्य घोषित करने की प्रतिज्ञा की।
18) जब दर्द किसी तरह कम नहीं हुआ, क्योंकि ईश्वर उसे उचित दण्ड दे रहा था, तो उसकी हालत से निराश हो कर यहूदियों के नाम बड़े विनम्र शब्दों मे यह पत्र लिखा :
19) ''राजा और सेनापति अंतियोख की ओर से आदरणीय यहूदी नागरिकों को अनेकानेक नमस्कार! आप स्वस्थ और सकुशल रहे।
20) यदि आप और आपके बच्चे कुशल-क्षेम से हैं और आपके सभी कार्य आपकी ईच्छा के अनुकूल सफल हैं, तो मैं इसके लिए ईश्वर को हार्दिक धन्यवाद देता हूँ: क्योंकि मुझे ईश्वर का भरोसा है।
21) मैं पलंग पर बीमार पड़ा हुुआ आप लोगों द्वारा दिये हुए सम्मान और सद्भाव का स्मरण प्रेम से करता हूँ। जब मैं फ़ारस से लौटते समय एक कष्टदायक बीमारी का शिकार बना, तो मुझे सारे देश की सुरक्षा का प्रबंध करना पड़ा।
22) मैं अपनी हालत से निराश नहीं हूँ, बल्कि मुझे पक्का विश्वास है कि मैं इस बीमारी से अच्छा हो जाऊँगा।
23) किंतु मेरे पिता का उदाहरण मेरे सामने है। जब वह उत्तरी प्रांतों में अपनी सेना को ले कर युद्ध करने जाते थे, तो वह सदा अपना उत्तराधिकारी नियुक्त करते थे।
24) इस तरह अप्रत्याशित घटना या अशुभ समाचार के कारण किसी को चिंता नहीं रहती थी; क्योंकि सब जानते थे कि शासन किसके हाथ में होगा।
25) मैं यह भी जानता हूँ हमारे निकटवर्ती शासक और हमारे राज्य के पडोसी अवसर की ताक में है, इसलिए मैंने अपने पुत्र अंतियोख को राजा नियुक्त कर दिया है। जब पहले कभी-कभी मैं उत्तरी प्रदेशों की यात्रा करता था, तो मैंने उसे आपके अधिकांश लोगों के सामने प्रस्तुत किया था और उसकी सिफारिश की थी। मैंने उसके नाम एक पत्र भी लिखा है, जिसे मैं भेज रहा हूँ।
26) मैं आप लोगों से निवेदन करता हूँ और यह चाहता हूँ कि आप उन उपकारों को स्मरण रखें, जो जनता और प्रत्येक व्यक्ति के साथ किये गये हैं और आप मेरे और मेरे पुत्र के प्रति सद्भाव बनाये रखें।
27) मुझे विश्वास है कि वह मेरी इच्छा के अनुसार आप लोगों के साथ विनम्र और सहृदय व्यवहार करेगा।''
28) जिस तरह उस हत्यारे और ईश-निदंक ने दूसरों को उत्पीडन किया था, उसी तरह वह असहय पीडा झेलने के बाद परदेश के पर्वतों के बीच चल बसा।
29) फिलिप जिसके साथ उसका पालन-पोषण हुआ था, उसका शव साथ ले गया। किंतु फिलिप ने उसके पुत्र अंतियोख से भयभीत हो कर पतोलेमेउस फिलोमेतोर के यहाँ मिस्र में शरण ली।
पड़ें अध्याय - 9101112