सन्त मत्ती : अध्याय 1
1) इब्राहीम की सन्तान, दाऊद के पुत्र, ईसा मसीह की वंशावली।
2) इब्राहीम से इसहाक उत्पन्न हुआ, इसहाक से याकूब, याकूब से यूदस और उसके भाई,
3) यूदस और थामर से फ़’ारेस और ज’’ारा उत्पन्न हुए। फ़’ारेस से एस्रोम, एस्रोम से अराम,
4) अराम से अमीनदाब, अमीनदाब से नास्सोन, नास्सोन से सलमोन,
5) सलमोन और रखाब से बोज’’, बोज’’’’ और रूथ से ओबेद, ओबेद से येस्से,
6) येस्से से राजा दाऊद उत्पन्न हुआ। दाऊद और उरियस की विधवा से सुलेमान उत्पन्न हुआ।
7) सुलेमान से रोबोआम, रोबोआम से अबीया, अबीया से आसफ़’,
8) आसफ़’ से योसफ़’ात, योसफ़’ात से योराम, योराम से ओजि’यस,
9) ओजि’’यस से योअथाम, योअथाम से अख़’ाज’’, अख़’ाज’’ से एजि’’कीअस,
10) एजि’कीअस, से मनस्सेस, मनस्सेस से आमोस, आमोस से योसियस
11) और बाबुल - निर्वासन के समय योसिअस से येख़’ोनिअस और उसके भाई उत्पन्न हुए।
12) बाबुल - निर्वासन के बाद येख़’ोनिअस से सलाथिएल उत्पन्न हुआ। सलाथिएल से ज’’ोरोबबेल,
13) ज’ोरोबबेल से अबियुद, अबियुद से एलियाकिम, एलियाकिम से आज’’ोर,
14) आज’’ोर से सादोक, सादोक से आख़ि’म, आख़ि’म से एलियुद,
15) एलियुद से एलियाज’’ार, एलियाज’’ार से मत्थान, मत्थान से याकूब,
16) याकूब से मरियम का पति यूसुफ़’, और मरियम से ईसा उत्पन्न हुए, जो मसीह कहलाते हैं।
17) इस प्रकार इब्राहीम से दाऊद तक कुल चौदह पीढ़ियॉं हैं, दाउद से बाबुल- निर्वाचन तक चौदह पीढ़ियॉं और बाबुल -निर्वासन से मसीह तक चौदह पीढ़ियॉं।
18) ईसा मसीह का जन्म इस प्रकार हुआ। उनकी माता मरियम की मँगनी यूसुफ से हुई थी, परंतु ऐसा हुआ कि उनके एक साथ रहने से पहले ही मरियम पवित्र आत्मा से गर्भवती हो गयी।
19) उसका पति यूसुफ चुपके से उसका परित्याग करने की सोच रहा था, क्योंकि वह धर्मी था और मरियम को बदनाम नहीं करना चाहता था।
20) वह इस पर विचार कर ही रहा था कि उसे स्वप्न में प्रभु का दूत यह कहते दिखाई दिया, ''यूसुफ! दाऊद की संतान! अपनी पत्नी मरियम को अपने यहॉ लाने में नहीं डरे,क्योंकि उनके जो गर्भ है, वह पवित्र आत्मा से है।
21) वे पुत्र प्रसव करेंगी और आप उसका नाम ईसा रखेंगें, क्योंकि वे अपने लोगों को उनके पापों से मुक्त करेगा।''
22) यह सब इसलिए हुआ कि नबी के मुख से प्रभु ने जो कहा था, वह पूरा हो जाये -
23) देखो, एक कुँवारी गर्भवती होगी और पुत्र प्रसव करेगी, और उसका नाम एम्मानुएल रखा जायेगा, जिसका अर्थ हैः ईश्वर हमारे साथ है।
24) यूसुफ नींद से उठ कर प्रभु के दूत की आज्ञानुसार अपनी पत्नी को अपने यहाँ ले आया।
25) यूसुफ का उस से तब तक संसर्ग नहीं हुआ, जब तक उसने पुत्र प्रसव नहीं किया और यूसुफ ने उसका नाम ईसा रखा।
पड़ें अध्याय - 1234