योशुआ का ग्रन्थ : अध्याय 9
1) यर्दन के इस पार पहाड़ी प्रान्त में और लेबानोन तक महासमुद्र से पूरे तट पर निचले प्रदेष में रहने वाले सब राजाओं ने जो हित्ती, अमोरी, कनानी, परिज्जी, हिब्बी और यबूसी थे, इस्राएलियों की विजय के विषय में सुना
2) और वे योषुआ और इस्राएल से युद्ध करने के लिए एकत्रित हुए।
3) जब गिबओन के निवासियों ने वह सब सुना जो योषुआ ने येरीख़ो और अय के साथ किया था,
4) तो उन्होंने छल-कपट करने का निष्चय किया। उन्होंने कुछ प्रतिनिधियों को भेजा जिनके गधो पर भोजन के पुराने बोरे और अंगूरी की मरम्मत की हुई मषकें लदी थी।
5) उन्होंने अपने पैरो में पैबन्द लगे जूते और शरीर पर फटे पुराने कपडे+ पहन लिये। उनके रसद की रोटियाँ सूखी और फफूँददार थीं।
6) वे इस देष में गिलगाल के षिविर में योषुआ के पास आये। वे उस से और इस्राएली लोगों से कहने लगे, ''हम दूर देष से आ रहे हैं इसलिए हमारे साथ सन्धि कीजिए''।
7) लेकिन इस्राएलियों ने उन हिव्वियों को उत्तर दिया, ''सम्भव है तुम्हारा निवास स्थान हमारे आसपास ही कहीं हो, तो हम तुम्हारे साथ कैसे सन्धि कर सकते हैं?''
8) किन्तु जब उन्होंने योषुआ से कहा, ''हम आपके दास है'' तो योषुआ ने उन से पूछा, ''सच बताओ तुम कौन हो और कहाँ से आये हो।''
9) उन्होंने उसे उत्तर दिया, ''हम आपके दास प्रभु, आपके ईष्वर का नाम सुन कर एक सुदूर देष से आये हैैं। हमने उसके विषय में और मिस्र में उसके किये सब कार्यो के विषय में सुना है।
10) हमने यह भी सुना है कि उसने हेषबाने के राजा सीहोन और अष्तारोत में रहने वाले बाषान के राजा ओग, यर्दन के उस पार रहने वाले उन दोनों अमोरी राजाओं के साथ क्या किया है।
11) यह सुन कर हमारे नेताओं और हमारे देष के सब निवासियों ने हमसे कहा, 'रास्ते के लिए रसद तैयार कर उन से मिलने जाओ और उन से कहो कि हम आप लोगों के दास है। आप लोग हमारे साथ सन्धि कर लें।'
12) ये हैं हमारी रोटियाँ। जब हम अपने रास्ते के लिए अपने घरों से इन्हें ले कर आप से मिलने निकले थे तब ये गर्म थी और अब देखिए ये कितनी सूखी और फफूँददार हो गयी हैं।
13) ये हैं हमारी अंगूरी की मषकें जब हमने इन्हें भरा था तब ये नयी थी और अब देखिए ये फट गयी है और ये हैं ंहमारे जूते और वस्त्र जो लम्बा मार्ग तय करने के कारण एकदम जर्जर हो गये हैं।''
14) इस पर लोगों ने उनके रसद की रोटियाँ चखी और प्रभु से पूछे बिना ही
15) योषुआ ने उन से संधि कर ली। समझौता हुआ कि उन्हें जीवित रहने दिया जाये। समुदाय के नेताओं ने इस बात को शपथ खा कर स्वीकार किया।
16) उनके साथ की हुई संधि के तीन दिन बाद इस्राएलियों को मालूम हुआ कि वे उनके पड़ोसी हैं। बिलकुल पास के रहने वाले।
17) इस पर इस्राएली प्रस्थान कर तीसरे दिन उनके नगरों में पहुँचे। गिबओन कफीरा बएरोत और किर्यत-यआरीम उनके नगर थे।
18) परन्तु इस्राएलियों ने उन पर इसलिए आक्रमण नहीं किया कि समुदाय के नेताओं ने प्रभु इस्राएल के ईष्वर के नाम की शपथ खायी थी। सारा समुदाय नेताओं के विरुद्ध भुनभुनाने लगा।
19) इस पर सब नेताओं ने उत्तर दिया, ''हमने प्रभु इस्राएल के ईष्वर के नाम पर उन्हें शपथपूर्वक वचन दिया हैं। इसलिए हम उन पर आक्रमण नहीं कर सकते।
20) अब हम उनके साथ ऐसा व्यवहार करें : हम उन्हें जीवित रहने दें। कहीं ऐसा न हो कि अपनी शपथ भंग करने के कारण हमें दण्ड दिया जाए।''
21) नेताओं ने उनसे कहा, ''उन्हें जीवित रहने दो। वे सारे समुदाय के लिए लकडी काटें और पानी भरें।'' समुदाय ने नेताओं की बात मान ली।
22) योषुआ ने उन्हें बुलाकर उनसे कहा, ''तुमने हमें यह कह कर धोखा क्यों दिया कि तुम हमसे बहुत दूर के निवासी हो जबकि तुम हमारे पास के ही रहने वाले हो?
23) इसलिए तुमको अभिषाप! तुम सदा दास के रूप में प्रभु के घर में लकड़ी काटने और पानी भरने का काम करोगे।''
24) उन्होंने योषुआ को उत्तर दिया, ''हम, आपके दासों को ठीक ठीक बताया गया था कि प्रभु आपके ईष्वर ने अपने सेवक मूसा से कहा कि वह आप लोगों को यह सारा देष दे देगा और वह आपके कारण इस देष के सब निवासियों का विनाष करेगा। इसलिए हमने आप लाोगों के डर से अपने प्राणों रक्षा के लिए ऐसा किया।
25) देखिए, हम अब आपके हाथों में ही है। आप जैसा ठीक और उचित समझें, हमारे साथ वैसा ही करें।''
26) योषुआ ने उन्हें इस्राएलियों के हाथों से बचाया जिससे कि वे उन्हें मार न डालें।
27) उसी दिन योषुआ ने उन्हें समुदाय और प्रभु की वेदी की सेवा में, उस स्थान पर लकडी काटने और पानी भरने के लिए नियुक्त किया, जिसे प्रभु चुनने वाला था। वे आज तक यही काम करते हैं।
पड़ें अध्याय - 9101112