समूएल का पहला ग्रन्थ : अध्याय 29
1) फ़िलिस्ती अफ़ेक के पास अपनी सारी सेना एकत्रित किये पडे+ थे और इस्राएलियों ने यिज्र+एल के जलस्त्रोत के पास पड़ाव डाला।
2) जब फ़िलिस्ती सेनापति अपने सौ-सौ और हज+ार-हज+ार सैनिको की टोलियों में निकल रहे थे और अन्त में आकीष के साथ दाऊद और उसके आदमी भी निकले,
3) तब फ़िलिस्ती सेनापतियों ने पूछा, ÷÷ये इब्रानी यहाँॅ क्या कर रहे हैं?'' आकीष ने फ़िलिस्ती सेनापतियो को उत्तर दिया, ÷÷यह तो इस्राएल के राजा साऊल का सेवक दाऊद है। एक-दो वर्ष से मेरे पास पड़ा है और इसके आने के दिन से आज तक मैंने इस में सन्देह की कोई बात नहीं पायी है।''
4) परन्तु फिलिस्ती सेनापति क्रोध में आकर बोले, ÷÷इस आदमी को यहॉँ से हटा दीजिए यह उसी जगह चला जाए, जो आपने इसे दी है। यह हमारे साथ लड़ाई में न चले। कहीं ऐसा न हो कि यह लड़ाई में हमारा विरोधी बन जाए। अपने स्वामी का फिर कृपापात्र बनने के लिए क्या यह सर्वोत्तम उपाय नहीं है कि यह हमारे आदमियों का वध करे?
5) यह वही दाऊद है, जिसके सम्मान में लोग नाचते हुए गाते थे : साऊल ने सहस्रों को मारा और दाऊद ने लाखों को।''
6) यह सुन आकीष ने दाउद को बुलाकर उससे कहा, ÷÷प्रभु की शपथ! तुम ईमानदार आदमी ठहरे और मुझे यह देख कर प्रसन्नता होती है कि तुम मेरे साथ युद्ध करने जा रहे हो; क्योंकि जब से तुम मेरे पास आये हो, तब से आज तक मैंने तुममे कोई दोष नहीं पाया है। लेकिन शासक तुम को पसन्द नहीं करते।
7) इसलिए तुम सकुषल वापस जाओ, जिससे तुम फ़िलिस्तियों के शासकों को अप्रिय न लगो।''
8) दाऊद ने आकीष से कहा, ÷÷मैंने क्या किया है? जब से मैं आपकी सेवा में हँॅू, तब से आज तक आपने अपने सेवक में क्या दोष पाया है कि अब मैं अपने स्वामी, राजा के शत्रुओं से न लडूँ?''
9) आकीष ने दाऊद को उत्तर दिया, ÷÷मैं तो तुम्हें स्वर्गदूत के समान निर्दोष समझता हँॅूू, पर फ़िलिस्ती सेनापतियों का कहना है कि वह हमारे साथ लड़ाई में न चले।
10) इसलिए कल बड़े सबेरे अपने स्वामी के सेवकों के साथ लौट जाओ, जो तुम्हारे साथ आये हैं। बडे+ सबेरे दिन निकलते ही चले जाओ।''
11) इस पर दाऊद अपने आदमियों के साथ बडे+ सबेरे उठकर फ़िलिस्तियों के देष लौट गया। उधर फ़िलिस्ती यिज+्रएल की ओर बढ़े।
पड़ें अध्याय - 293031