तेरी शरण

तेरी शरण में हम दौड़ आते हैं, हे ईश्वर की पवित्र माँ।  हम अपनी जरूरत में जो विनती करते हैं, उसे अस्वीकार न कर, लेकिन, हे प्रतापी और धन्य कुँवारी, हमें सदा सब जोखिमों से बचा।  आमेन।